मैडम के चुचे को बड़ा कर दिया

ज़रा चूतडों को तो दिखला दो !!
ज़रा चूतडों को तो दिखला दो !!

हाई दोस्तों, ये बात जो में आपको बताने वाला हू वो आज से दो साल पहले की हे जब में बारवी में था | मुझे स्कूल के बाद एक्स्ट्रा क्लास में जाना पढता था जो की अपने स्कूल में ही होता था | मैं जिस विषय में कमजोर था, हमारी वोही मैडम हमे वो पढाती थी स्कूल के बाद | मैडम दिखें में ठीक ठाक थी बोले तो रंग साफ़ था, कद भी ठीक थी सुन्दर थी पर चुचे बहुत छोटे थे |  उस समय मैडम की शादी नही हुई थी और अब उनके तीन बच्चे हे | जब की ये बात हे उस समय सर्दी का मौसम चल रहा था | मैं अपने एक विषय में कमजोर था इसीलिए मैडम उस विषय को बाद में मुझे पद्धति थी अलग से अपने घर में बुला के |एक दिन क्या हुआ की स्कूल के बाद हमारी एक्स्ट्रा क्लास चल रही थी, उस एक्स्ट्रा क्लास में कुल मिला के १३ बच्चे आते थे, ८ लड़के और ५ लड़किया | उसदिन मैडम ने सफ़ेद रंग अक सूट पहना हुआ था, मैडम पदाहते पदाहते पता नही क्यों झुकी और हमे मैडम के छोटे छोटे चुचे दिख गए | मैडम के छोटे चुचे देख के सरे लड़के हसने लग गए, किसी को भी पता नही चला यहाँ तक की मैडम को भी और लड़कियों को भी पर सरे लक्दो को पता चल गया और हम सब बहुत जोर से हसे थे, पर सबसे पहले मेने अपनी हसी बंद कर ली थी जिसके कारण मैडम को लगा की सब हसे पर में नही हसा | सबके हसने में मैडम बहुत गुस्सा हुई और जादा देर नही पढाई | शाम को जब में मैडम के घर गया तब मैडम ने मुझे पढाया और बिच में मुझसे पुच दिया की आज सब क्लास में क्यों हसे थे ? मेने कुछ नही बोला और बोला की ऐसे ही हसे पर मैडम को पता चल गया की में झूट बोल रहा हू | मैडम फिरसे जोर दे मुझसे पूछने लगी की सच सच बताओ | मैं बात को यहाँ वहा घुमाने लगा पर मैडम को अब भी विश्वास नही हो रहा था काफी देर के बाद मेने मैडम को सच बता दिया की जब आप झुकी तो सबको आपके च्चुहे दिख गए थे, छोटे होने के कारण सब हसे थे अगर बड़े होते तो कोई नही हस्ता पर छोटे थे………. |मैं क्या करूँ, मेने बहुत सी दवाई खा के देख ली, क्रीम भी लगाई पर बड़े नही होते मैं क्या करू कुछ समझ में ही नहीं आता |आपने कभी सेक्स किया हे क्या, अगर नही किया हे तो वोही एक रास्ता हे आपके चुचो को बड़ा करने का |क्या तुम मेरे लिए ये कर सकते हो ?वेसे कर तो सकता हू पर अगर आपको बुरा नही लगना चाहिए की ये क्या हो रहा हे सब ?नहीं मुझे बुरा नही लगेगा, वेसे भी तुम मेरे लिए वो काम कर रहे हो जो मेरा सर दर्द बन चूका हे |ठीक हे मैं तैयार हू करने के लिए |ठीक हे फिर तुम कल सुबह पाच बजे मेरे घर आ जाना |मैं फिर पढाई होने के बाद चला गया और पुरे रस्ते भर में खुशी के मारे मुस्कुराता रहा और घर जाने के बाद दो बार मुठ भी मारा | पूरी रात नींद नही आई और फिर में चार बजे ही सुबह घरसे निकल गया और मैडम के घर जल्दी पहुच गया | मेने घंटी बजाई और फिर मैडम ने दरवाजा खोला | मैडम बोली की तुम बैठो में चाय लाती हूँ और फिर मैडम चाय लाइ और फिर हम दोनों मिल के चाय पिए और फिर मैडम बोलीबताओ क्या करना होगा मुझे ?यहाँ नही मैडम कमरे में चलते हे यहाँ पे ठीक से नही होगा | फिर हम दोनों कमरे में गए और फिर मेने मैडम का हाथ पकड़ा और फिर कहा की देखो मैडम मैं आपको इस काम के बिच एम् मैडम कर के नही बुलाऊंगा आपको आपके नाम से बुलाऊंगा और आप इस काम के खतम होने तक मुझे अपना सबसे करीब का मर्द समझना जिससे आप सब कुछ बताते हो जिसको आप अपने दिल से भी जादा मानते हो |ठीक हे मैं वेसा ही करुँगी |उसके बाद मेने मैडम का हाथ को अपनी तरफ खीच और मैडम मुह्ज्से एक दम से लिपट गयी और फिर मेने मैडम को कमर से पकड़ लिया और मैडम के आँखों में आँखे डाल के बात करने लग गया, मैडम की सांसे तेज होने लग गयी थी | मेने अपने चेहरे को उनके चेहरे की तरफ बढाया और मैडम भी वेसे ही कर रही थी और फिर मेने मैडम के होठो पे अपने होठो को रख दिया अब हम दोनों एक दूसरे के होठो को चूसने लगे थे | होठो को चूसते हुए मैं मैडम के पीठ पे हाथ फेरने लगा था और फिर कुछ पल बाद माम भी मेरे पीठ पे हाथ फेरने लगी | मेने मैडम को कस के दबोच लिया और मैडम आउच कर के उठी | मेने फिर मैडम को बिस्तर पे लेता दिया और अपने कपड़े उतारने लग गया मेने अपनी सिर्फ शर्ट उतारी और फिर उनके उपर चड गया, और उनके होठो को चूसने लगा और फिर उनके गालो पे गले पे किस करने लगा | मैडम सिसकिय भरने लग चुकी थी और बोल रही थी अरी क्या कर रहे हो ये क्या हो रहा हे मुझे अह्हह्ह हम्म्म्म | मेने फिर अपने होठो को मैडम के चुचो पे रख दिया और अपने होठो से दबाने लग गया और उनके निप्पल को कपडे के उपर से ही काटने लग गया |मेने फिर उन्हें कहा की अपने कपड़ो को उतार दो फिर मैडम खड़ी हुई और अपने कपडे उतारने लग गयी | मेने उन्हें रोक दिया और फिर मैं खुद उनके कपडे उतार दिया और फिर मेने खुद की पनेट उतार दी | उसके बाद मैडम बिस्तर पे लेट गयी और में उनके उपर लेट गया और उन्हें फिरसे किस करने लगा और किस करते करते उनके चुचो को चूसने लगा, वो उस समय मेरे सामने सिर्फ पेंटी में लेटी थी और में सिर्फ चड्डी में था | में उनके निप्पल को अपने होठो में दबा के उपर की तरफ खीच रहा था और फिर निचे छोड़ के उसपे जीभ फेर रहा था | मैडम अब जोर जोर से साँसे लेने लग चुकी थी और सिसकिय भर रही थी अह्ह्ह्ह्ह्ह मम्म्म ई ओह्ह्ह्ह किये जा रही थी |मैडम मेरे पीठ पे हाथ फेरे जा रही थी और मेरे बालो को पकड़ के मुझे अपनी तरफ खीच के चूमने लगी थी, वो काफी गर्म हो चुकी थी तब तक | मैं उन्हें चुमते चुमते उनके पेट तक पहुच गया और फिर उनके नाभि पे जीभ फेरा और फिर चुत पे आ गया | उन्होंने सफ़ेद रंग की पेंटी पहनी हुई थी जो एक तरफ से गीली हो चुकी थी |मेने उनकी पेंटी पे हाथ फेरा और फिर सूंघने लगा तो क्या मस्त महक आ रही थी | मैं उनकी चुत को अपने होठो से काटने लगा पेंटी के उपर से ही और फिर काटते कटते मेने उनकी पेंटी उतार दी | उनकी चुत पे बहुत छोटे छोटे बाल थे, उनकी चुत देखने एम् ही लग रही थी की काफी गीली हे | वो अपनी आँखों को बंद कर के लेटी हुई थी, मैं उनकी चुत पे जीभ फेरने लगा और फिर उनकी चुत की पंखडियो को खोल के उनकी चुत के अंदर जीभ फेरने लगा | जेसे ही अंदर जीभ फेरा उनका जिस्म कापने लगा और उन्होंने अपनी टांगो को एक दम सीधा कर लिया | मेने उनकी टांगो को खोल दिया और फिर उनकी चुत में कस कस के जीभ रगड़ने लगा | चुत को दस मिनट चाटने के बाद में फिरसे उनके चुचो को चूसने लगा और अपना एक हाथ उनकी चुत की तरफ बड़ा के छेद में ऊँगली डालने गया तो नही घुस, बस थोडा सा खुल गया | मैडम एक दू सील पैक थी, थोडा सा खुलने के कारण उन्हें दर्द हुआ और वो बोली नही मुझे कुछ नही करना बंद करो अभी ये | मैं बोला चिंता मत करो एक बार ही दर्द होता हे बस और अब दर्द नही होगा |मैं फिर अपनी ऊँगली में क्रीम लगाई और और उनकी चुत पे लगाई और फिर उनके होठो को किस्क्रने लगा और न्सिहे से एक ऊँगली डाल दी, ऊँगली चली गयी पर उन्हें हल्का सा दर्द हुआ फिर वो शांत ह गयी | मैं अब उनकी चुत में करीं दस मिनट तक ऊँगली किया वो मेरे ऊँगली का काफी मज़ा ले रही थी वो उईई आह हम हमहम हम हम किया जा रही थी और कुछ देर के बाद उनकी चुत से कस के पानी निक और मेरा पूरा हाथ गीला हो गया | मैं फिर उठा और फिर मैडम के चुचो को चूसने लगा और मसलने लगा, मैडम के चुचे एक दम लाला हो गए थे और मैडम को भी काफी मज़ा आ रहा था |  मेने फिर अपने लंड पे क्रीम लगाई और फिर से उनकी चुत पे क्रीम लगाई और उनके होठो को दो मिनट तक चूस और साथ ही साथ उनके चुचो को भी मसलता रहा और फिर न्सिहे उनकी चुत में कस के लंड डाल दिया | उनकी आँखे खुली की खुली रह गयी, अब वो मुझे अपने उपर से धक्का देने लग गयी पर में हटा नही और फिर बोला की अब कुछ नही करूँगा मुझे बस अपने उपर लेटने दो | वो बोलने लगी की बसु लेटे रहो पर निचे कुछ मत करो बहुत दर्द हो रहा हे, और अब अगर तुमने कुछ किया तो में दर्द से मर जाउंगी |मैं कुछ देर उनके उपर लेता रहा और उन्हें चुमते रहा और उनके चुचो को भी चूसता रहा | उनका दर्द अब कम हो रहा था और वो मजे ले रही थी, कुछ देर ऐसा किया और बहुत ही धीरे धीरे मेने अपने लंड को हरकत में किया तो उन्हें दर्द हो रहा था पर मजे भी ले रही थी होती और चुचो की तो वो कुछ नही बोल रही थी | मेने फिर ऐसा ही किया और थोड़े देर के बाद उनका चुत का दर्द कम हो गया और फिर मेने अपने लंड को अब पूरा आगे पीछे करने लगा | अब वो मेरा साथ देने लगी और अपने नाख़ून को मेरे पीठ में गाड दिया और अपने कमर को हिलाने लगी थी मेरे लंड के साथ साथ | वो अब कस कस के सिसकिय भरने लगी थी अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह उईईई ह्म्म्म्म्म्म्म ओह ओह ओह ओह उ उ उ उ उ उ  ओह माई गोड अहह हम और और और करो ऐसे ही करते रहो ह्म्म्म बहुत मजा अ रहा हे वो अब अपने कमर को उपर निचे करने लगी थी मेरे लंड के साथ साथ |  में उनके चुचो को दबाने लगा, उनके होठो को च्सुने लगा और निचे चुत में लंड डाल रहा था, हम दोनों अपने जिस्म का पूरा उपयोग कर रहे थे और मज़े ले रहे थे | मैं दस मिनट में उनके चुत में ही झड गया और वो मुझसे पहले दो बार झड चुकी थी | मैं फिर उनके पर ही लेता रहा और फिर जब घडी देखा तो ६:३० हो रहा था, और स्कूल भी जाना था इसीलिए हम दोनों उठ के कपडे पेहेन लिए और फिर में अपने घर को चल दिया |फिर जब शाम को उनके पास पढ़ने आया तो वो बोली की मेरे वहा पे दर्द हो रहा हे, मैं बोला कुछ नही होगा और दो तीन बार करने से ठीक हो जायेगा | उसदिन फिर पढाई छोड़ के हमने फिरसे चुदाई की | मैं उन्हें दो साल तक पेलता रहा और अब उनके चुचे इतने बड़े हो गए हे की कभी कभी उनका ब्रा का हुक खुद ही खुल जाता हे | अब उनकी शादी हो चुकी हे और जब भी अपने माइके आती हे तो मुझे अपनी चुत जरुर देती हे और आज भी वो जब मुझे मिलती हे और केटी हे की तुमने जो मेरे चुचो को बड़ा किया हे इसका एहसान में कभी नही भूल पाऊँगी |

Comments